About Us

1 समिति का नाम : INDUSTRIAL TRAINING TECHNICAL EMPLOYEES ASSOCIATION
2 समिति का मुख्य कार्यालय: ITI,JIND
3 समिति का कार्यक्षेत्र: समस्त हरियाणा राज्य होगा

लक्ष्य व उद्देश्य

  1. INDUSTRIAL TRAINING TECHNICAL EMPLOYEES ASSOCIATION का संचालन करना |
  2. INSTRUCTIONAL STAFF के WELFARE के लिए कार्य करना |
  3. योग के उत्थान के लिए कार्य करना, योगशाला खोलना व् सञ्चालन करना |
  4. गांव में महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों से बचने, उनके विरुद्ध संगठित होने व इन्ही सभी बुराइयों के विरुद्ध कार्य करने के लिए जागृत करना |
  5. खेलों के विकास के लिए संसाधनों का संरक्षण करना |
  6. साक्षरता में सरकार का पूर्ण सहयोग करना |
  7. जन कल्याण हेतु विकास कार्य करना |
  8. हिंदी भाषा (देवनागरी लिपि )का विकास व विस्तार |
  9. समाज में फैली बुराइयों जैसे :-कन्या भ्रूण हत्या, दहेज प्रथा, बाल विवाह, एड्स, नैतिक पतन, पाखंड, अश्लीलता, भ्रष्टाचार, बाल श्रम , शराब बंदी आदि बुराइयों की रोकथाम करना |
  10. गरीब एवं होनहार खिलाड़ियों को छात्रवृति प्रदान करना |
  11. समिति के द्वारा विभिन्न स्तरों पर अखाड़े, लाइब्रेरी, कंप्यूटर सैंटर, डिस्पेंसरी, अकेडमी, व्यायामशाला, यज्ञशाला आदि हरियाणा में किसी भी जगह समाज सेवा के लिए चलाए जायेगे |
  12.  निर्धन परिवारों, पिछड़ी जाति व कमजोर खिलाड़ियों की सहायता करना |
  13.  आँखों के इलाज हेतु कैम्प लगवाना व गरीब लोगों का मुफ्त इलाज करना |
  14.  गांव-गांव में स्वास्थ्य शिविरों का आयोजन करना |
  15. आध्यात्मिक विकास, जाग्रति कैम्प व सेमीनार का आयोजन करना, जिसमे पीने के पानी की शुद्धता,स्वास्थ्य, परिवार कल्याण,छोटा परिवार परिवार की सलाह देकर समाज को स्वच्छ बनाना |
  16. आध्यात्मिक विकास, जाग्रति कैम्प व सेमीनार का आयोजन करना, जिसमे पीने के पानी की शुद्धता,स्वास्थ्य, परिवार कल्याण,छोटा परिवार परिवार की सलाह देकर समाज को स्वच्छ बनाना |
  17. युवाओं के बढते नशे की प्रवृति जैसे ड्रग, अफीम, चरस,गांजा,            बीडी-सिगरेट,भुक्की,तम्बाखू,शराब आदि को छुडवाने के लिए कैम्प लगवाना |
  18. समाज में फैले आतंकवाद,लूटपाट,भ्रष्टाचार को रोकने की भरपूर कोशिश करना |
  19. कोड, चरमरोग,पागलपन,लकवा,पीलिया,कैंसर और अन्य भयंकर बिमारियों में लोगों की सेवक करना व मुफ्त ईलाज करवाना |
  20. गरीब तबके के लोगों के लिए छोटे स्तर पर उद्योग स्थापित करने के लिए सहायता   करना |
  21. अनउपजाऊ भूमि वन भूमि में पेड-पौधें लगाकर वातावरण से प्रदूषण कम    करना |
  22. वन्य पशु-पक्षियों व जीव-जंतुओं, आंवारा गायों की रक्षा करना,गौशालाओं का निर्माण करना एवं गोंसवर्धन केंद्र खोलने तथा उनके रहने का उचित प्रबंध             करना |
  23. भारत में जाति, धर्म, क्षेत्र, रंग भेद, अमीर गरीब  तथा भाषा के आधार पर होने वाले भेदभाव को समाप्त करने के लिए गांव- गांव में वैदिक उपसमिति के गठन करना |
  24. जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण,भूमि प्रदूषण आदि समाप्त करने के लिए प्रयास करना |
  25. सड़क पर दुर्घटना में घायल व्यक्ति के लिए और गर्भवती स्त्री को नजदीक हस्पताल में पहुंचाने के लिए आपातकालीन वाहन एम्बुलेंस का प्रबंध करना |
  26. समाज में रहने वाले अंधे ,शारीरिक विकलांग,दिमागी तथा मानसिक रूप से विकलांग गूंगे,बहरे तथा असहाय लोगो की सहायता हेतु उचित तौर  पर सहायता करके उन्हें हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध  करवाना|
  27. खेलों के उत्थान के  लिए कार्ये करना एवं प्रतियोगिता  करवाना |
  28. जनसंख्या वृद्धि को रोकने के लिए लोगों को जागृत करना |
  29. ग्रामीण युवक-युवतियों में अनुशासन, नेतृत्व, समाज सेवा ,चरित्र निर्माण,शारीरिक स्वास्थ्य हेतु  कार्य शिविरों का आयोजन करवाना |
  30. भारत देश के किसी भी कोने में अथवा भारत के मित्र देशों में कही भी बाढ, सुखा, भूकंप, महामारी तथा शान्ति स्थापना के लिए भरपूर सहायता करना  |
  31. संगठन के उददेश्यों को पूरा करने के लिए सरकारी-गैरसरकारी संस्थानों से डोनेशन,फंड,लोन प्राप्त करना |
  32. संगठन अपनी आय के दवारा अपने उददेश्यों को पूरा करने के लिए कोई भी कार्ये कर सकती है जिससे समाज कल्याण होता हो |


शर्ते

क)      समिति की सम्पति तथा आय समिति के हित के लिए व्यय की जायगी | इसमे से किसे भी सदस्य या संरक्षक  को लाभ या सम्पति का कोई भी भाग बोनस या लाभांश के रूप में नहीं दिया जायगा |

 

ख)      समिति के सभी सदस्य अवैतनिक होगे |कार्यकारिणी का कोई भी सदस्य या संरक्षक समिति के लिए जो अपनी जेब से व्यय करेगा तो यह समिति की आय से उसे दे दी जायगी |

 

ग)       यदि समिति को कोई लाभ या आमदनी होगी उसको समिति के हित में निवेश किया जायगा तथा अन्य सामाजिक कार्यों के लिए उपयोग में लाया जा सकता  है |

 

घ)       किसी कारणवश समिति के बंद  होने स्थिति  में देनदारी अथवा लेनदारी का कोई भी सदस्य व्यक्तिगत रूप से जिममेदार नहीं होगा अपितु ऐसी स्थित्ति में समिति  के सदस्यों के  2/3 बहु -मत के निर्णय अनुसार समान  विचार धारा वाली समिति को सोंप दी जाएगी |